"अदा है, ख्वाब है, तकसीम है, तमाशा है, तेरी इन आँखों में एक शख्स बेतहाशा है"

"उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ, पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे, ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ, काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे।"

"इश्क के फूल खिलते हैं तेरी खूबसूरत आँखों में, जहाँ देखे तू एक नजर वहाँ खुशबू बिखर जाए।"

"बिना पूछे ही सुलझ जाती हैं सवालों की गुत्थियाँ, कुछ आँखें इतनी हाज़िर-जवाब होती हैं।"

"यह मुस्कुराती हुई आँखें जिनमें रक्स करती है बहार, शफक की, गुल की, बिजलियों की शोखियाँ लिये हुए"

"अगर कुछ सीखना ही है, तो आँखों को पढ़ना सीख लो, वरना लफ़्ज़ों के मतलब तो, हजारों निकाल लेते है।"

"जो सूरुर है तेरी आँखों में वो बात कहां मैखाने में, बस तू मिल जाए तो फिर क्या रखा है ज़माने में।"

"एक नजर देख ले हमे जीने की इजाजत दे दे, ए रुठने वाले… वो पहली सी मोहब्बत दे दे।

वो बोलते रहे… हम सुनते रहे… जवाब आँखों में था वो जुबान में ढूंढते रहे।"

"तेरी निगाह दिल से जिगर तक उतर गयी, दोनों को ही एकअदा में रजामंद कर गई।"

ऐसे ही हिंदी शायरी पढ़ने के लिए निचे दिए लिंक पर क्लिक कीजिये